Linux Kya Hai in Hindi इसका इतिहास, विशेषताएं, उपयोग, फायदे, नुकसान – What Is Linux in Hindi

Linux Kya Hai in Hindi इसका इतिहास, विशेषताएं, उपयोग, फायदे, नुकसान – What Is Linux In Hindi

जैसा कि आप सभी जानते हैं की Linux Kya Hai In Hindi आज का समय तकनीकी क्रांति का है। बाजार में रोज़ ही नए नए गैजेट्स या इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस आ रही है। इससे हमारी लाइफ स्टाइल काफी प्रभावित हुई है। लोग संचार और रोजगार सभी के लिए गैजेट्स का इस्तेमाल कर रहे हैं। हम ये बात आपको भी नहीं जुटा सकते की इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स की बदौलत ही नए रिवोल्यूशन का उदय हुआ है और हम कई सारी नई नई चीजों से परिचित हुए हैं। ये जो कैसेट्स होते हैं ये असल में मिनी कंप्यूटर्स की तरह होते हैं Linux Kya Hai In Hindi

जिनमें कुछ विशेष प्रोग्राम्स यानी सेट ऑफ इन्स्ट्रक्शन्स डाले जाते है की वो डिवाइस कैसे काम करेगा और इन प्रोग्राम्स को काम में लाने के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग गैजेट्स में किया जाता है। चाहे आप कोई भी गैजेट्स ले लो। स्मार्ट फ़ोन से लेकर कार तक, सुपर कंप्यूटर से लेकर होम अप्लाइंस तक, होम डेस्कटॉप से लेकर डेटाबेस सर्वर तक इन सभी डिवाइसेज में ऑपरेटिंग सिस्टम जरूर होता है। Linux Kya Hai In Hindi

डिजिटल दुनिया में बहुत से ऑपरेटिंग सिस्टम उपलब्ध हैं जैसे ऐन्ड्रॉइड, आइओएस, विंडोज इत्यादि। इन सभी ऑपरेटिंग सिस्टम के अलावा एक और ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसका इस्तेमाल ज्यादातर इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स में किया जाता है और उस का नाम है लिनक्स। हमें भले ही इसके बारे में जानकारी नहीं है, लेकिन हम इसका इस्तेमाल हमेशा कर रहे हैं। लिनक्स को बने हुए करीब 30 साल से भी ज्यादा हो चूके हैं। 1990 के मध्य से ही ये हमारे बीच सबसे पहले आया और तब से ही इसकी उपयोगिता के कारण ये प्राइस सभी डिवाइस में राज़ कर रहा है

और आगे भी करता रहेगा। ज्यादातर लोगों को लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं है। इसीलिए आज हम यह वीडियो लेकर आए जिसमें आपको लिनक्स से जुड़ी सारी जानकारी दी जाएगी तो विडिओ को अंत तक जरूर देखिये। तो सबसे पहले हम जानेगे की Linux Kya Hai in Hindi

लिनक्स क्या है – Linux Operating System In Hindi

विंडोस, आईओएस और मैक ओएस की तरह लिनक्स भी एक ऑपरेटिंग सिस्टम है। ऑपरेटिंग सिस्टम एक कंप्यूटर के उपयोगकर्ता और कंप्यूटर हार्ड्वेर के बीच एक इंटरफेस होता है जिसमें यू सर कंप्यूटर के साथ आसानी से इंटरैक्ट कर सकता है। ओएस सॉफ्टवेयर का एक संग्रह है जो कंप्यूटर हार्ड्वेर रिसोर्सेस को मैरिज करता है और कंप्यूटर के कार्यक्रम के लिए सामान्य सेवाएं प्रदान करता है। ओएस के बिना सॉफ्टवेर कार्य नहीं कर सकते। Linux Kya Hai in Hindi

Linux Kya Hai in Hindi -इसका-इतिहास-विशेषताएं-उपयोग-फायदे-नुकसान-What-Is-Linux-In-Hindi.

लिनक्स सबसे लोकप्रिय और मल्टी ऑपरेटिंग सिस्टम है, जो आपके डेस्कटॉप और लैपटॉप से जुड़े सभी हार्ड्वेर रिसोर्सेस को मैनेज करता है। लिनक्स यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम का एक बहुत ही मशहूर वर्जन है। ये एक फ्री तथा ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है, जिसका मतलब है की एक डेवलपर इंटरनेट पर मुफ्त में लिनक्स कोडिंग को अपने अनुसार मॉडिफाई कर कमर्शियल तथा पर्सनल डिवाइस में भी इस्तेमाल कर सकता है। असल में लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम को पर्सनल कंप्यूटर के लिए ही बनाया गया था।

ये भी पढ़े:-

लेकिन बाद में इस ऑपरेटिंग सिस्टम से अनेक प्लैटफॉर्म जैसे मोबाइल, स्मार्ट टीवी, गेमिंग कन्सोल यहाँ तक वाहनों में भी इस ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया जाता है। लिनक्स यूनिक्स की तरह ही मिलता जुलता ऑपरेटिंग सिस्टम है और इसका इस्तेमाल सर्वर तथा कंप्यूटर सिस्टम डिवाइस में सबसे अधिक होता है। और अब हम जानेगे कि

लिनक्स को किसने और कब बनाया? (Linux Kya Hai in Hindi)

दोस्तों लिनस ऑपरेटिंग सिस्टम को Linux Torvalds ने सन् 1991 में विकसित किया और ये At & T’S लैबोरेटरीज द्वारा जनरल पब्लिक लाइसेंस जीपीऐल के तहत जारी किया गया। जब Linux यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ के छात्र थे।

लिनक्स का इतिहास (Linux History In Hindi)

ऑपरेटिंग सिस्टम की शुरुआत सन 1991 में Linux Torvalds नामक व्यक्ति द्वारा की गई थी और लिनक्स At & T’s laboratory द्वारा General Public License GPL के तहत इसको जारी किया गया था। जब लिनक्स ने इसको जारी किया था उस समय Linux University Of Health के स्टूडेंट थे।

तब वे यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम का एक वर्जन मिनिक्स नामक ओएस का उपयोग कर रहे थे। जब लिनक्स और कुछ user ने ये पाया कि Linux में कुछ बदलाव करने पर ये ओएस और भी बेहतर तरीके से काम कर सकता है,
तब उन्होंने इसके निर्माता Andrew Tanenbaum 210 बॉन से मिनिक्स में मॉडिफिकेशन और सुधार करने का अनुरोध किया की ये बदलाव आवश्यक नहीं है और उन्होंने इसमें बदलाव नहीं किये।

यही वो समय था जब लिनस ने अपना ऑपरेटिंग सिस्टम बनाने का फैसला किया, जो उपयोगकर्ता के कॉमेंट्स और सुधारों के सुझाव को ध्यान में रखेगा। लिनस सी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के छात्र थे तो उसने सी लैंग्वेज में कोड लिखना शुरू किया। लिनक्स ओएस का कोड लगभग 95 प्रतिशत सी में लिखा गया और बाकी की कोडिंग उन्होंने असेम्ब्ली लैंग्वेज और अन्य लैंग्वेजेस में लिखा।

कोडिंग तैयार करने के बाद लिनस ने उस ऑपरेटिंग सिस्टम का नाम, अपने पहले नाम और यूनिक्स के नाम को जोड़कर लिनक्स नाम रखा। लिनक्स को यूनिक्स के अनुकूल डिजाइन किया गया था। इसीलिए बहुत सी फंक्शनैलिटी, यूनिक्स से मिलती जुलती है। लिनक्स और यूनिक्स कई मायनों में सामान, लेकिन यूनिक्स फ्री नहीं, जबकि लिनक्स फ्री में उपलब्ध होता है। इसके अलावा लिनक्स कंप्यूटर्स के लिए बहुत ही भरोसेमंद ऑपरेटिंग सिस्टम है क्योंकि ये अच्छे सेक्युरिटी फिचर्स प्रदान करता है जो यूजर फाइल को इनक्रिप्टेड फॉर्म में रखने की सुविधा देता है जैसे पासवर्ड प्रोटेक्शन और कंट्रोल ऐक्सेस।

लिनक्स के कॉम्पोनेंट्स (Components Of Linux Operating System in Hindi)

लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के तीन मुख्य कॉम्पोनेंट्स है

1. Hardware
2. Kernel/Shell
3. System Utility

इनका काम किया है और ये लिनक्स के लिए महत्वपूर्ण क्यों होते हैं? चलिए इसके बारे में भी आपको बता देते हैं। सबसे पहले बात करेंगे हम

हार्डवेयर (Hardware)

Hardware ही सबसे पहला कॉम्पोनेंट है हार्ड्वेर जिसमें पेरिफेरल डिवाइस जैसे की RAM, Hard Disc Drive और CPU मिलकर लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए हार्डवेयर का निर्माण करते हैं।

करनैल (Kernel)

करनैल लिनक्स का मुख्य भाग होता है। ये इस ऑपरेटिंग सिस्टम की सभी प्रमुख गतिविधियों के लिए जिम्मेदार होता है। ये इंटरनल हार्ड्वेर के साथ सीधा इंटरैक्ट करता है। कर्नल सिस्टम या ऐप्लिकेशन प्रोग्राम में हार्ड्वेर के लोअर लेवल डिटेल्स को छिपाने की सेवाएं प्रदान करता है।

शेल (Shell)

शेल उपयोगकर्ता और कर्नल के बीच एक इंटरफेस है। ये उपयोगकर्ता से कर्नल के कार्यों की कॉम्प्लैक्सिटी को छुपाता है। ये उपयोगकर्ता के कमांड को स्वीकार करता है और उसपर ऐक्शन भी लेता है। सिस्टम यूटिलिटी सिस्टम यूटिलिटी यूजर को ऑपरेटिंग सिस्टम के तरह के फंक्शन्स का उपयोग करने के लिए सेवाएं प्रदान करती है। व्यक्तिगत और विशेष कार्यों का उपयोग सिस्टम यूटिलिटी के जरिए ही किया जा सकता है।

लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम की विशेषता (Fetures Of Linux Os In Hindi)

लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम दूसरे ओवर से काफी बेहतर है और इसके बहुत सारे फीचर्स है। लेकिन हम यहाँ पर कुछ ही विशेषताएं के बारे में बताएंगे जिनके बारे में आप सभी को जानना चाहिए।

1.Open Source (ओपन सोर्स)

ओपन सोर्स एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जिससे कि ये इंटरनेट पर इस्तेमाल करने के लिए बिल्कुल मुफ्त में उपलब्ध है, जिससे कोई भी यूज़र या डेवलपर्स अपने हिसाब से उसमें बदलाव कर सकता है। इसके जरिए हम इस OS के फंक्शनैलिटी बढ़ाकर इसको और अच्छा बना सकते हैं।

2.Portibility (पोर्टेबिलिटी)

मुख्य विशेषताओ में से एक है जिसने लिनक्स को इसके यू सर के बीच इतना लोकप्रिय बना दिया। लेकिन पोर्टेबिलिटी का मतलब ये नहीं की ये सिस्टम फाइल के आकार में छोटा है और इसे पेन ड्राइव, सीडी और मेमोरी कार्ड पर ले जाया जा सकता है नही इसके बजाए यहां प्रोटेबिलिटी का मतलब है Linux Os और इसके एप्लीकेशन एक ही तरह से विभन्न प्रकार के हार्डवेयर पर काम कर सकते है। लिनक्स करनैल और एप्लीकेशन प्रोग्राम बहुत कम से कम हार्डवेयर configuration पर भी अपनी स्थापना का समर्थन करते है जिससे आप अपने पुराने कंप्यूटर में भी जान डाल सकते है

3. Multiuser (मल्टी यूजर)

मल्टी यूजर और मल्टी प्रोग्रामिंग ऑपरेटिंग सिस्टम है। इसमें एक साथ एक से ज्यादा यूजर कंप्यूटर के हार्डवेयर को एक्सेस कर सकते है और इस्तेमाल कर सकते हैं।

4. Multi Tasking (मल्टीटास्किंग)

Linux में मल्टी टास्किंग का फीचर भी उपलब्ध है। जिसे की एक यूजर एक ही समय में एक से ज्यादा प्रोग्राम स्टार्ट या सॉफ्टवेयर को रन कर सकता है

5. Security (सिक्योरिटी)

Linux सुरक्षा किसी भी OS का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। उन संगठन या उपयोगकर्ता के लिए जो अपने गोपनीय कार्यों के लिए सिस्टम का उपयोग कर रहे है। linux अपने उपयोगकर्ताओं को उनके डाटा और सिस्टम को Unauthorized Access से बचाने के लिए कई Secuirty कांसेप्ट्स प्रदान करता है यह पूरी तरह से संकट मुक्त ऑपरेटिंग सिस्टम है। और इसमें Virus या Malware जैसी कोई भी समस्या मौजूद नही होती है। जो आपके कंप्यूटर की गति को कम कर दे।

दुनिया भर में हजारों कंपनियां है और सरकारी Linux Os का उपयोग इसेक Affordability, Low Cost License समय और धन के कारण कर रहे है गूगल, एमेजॉन और फेसबुक जैसी कंपनियां अपने सर्वर को सुरक्षा के लिए Linux का इस्तेमाल करती है। क्योंकि यह अत्यधिक विश्वनीय और शिथिर Os है।

लिनक्स के फायदे (Advantages Of Linux Os in Hindi)

Devices :- केवल पर्सनल कंप्यूटर, लैपटॉप आदि में ही नही बल्कि छोटे गैजेट्स पीडीए, स्मार्ट वॉच, मोबाइल फोन, कैमरा आदि में भी किया जाता है

Gadgest :- लिनक्स का इस्तेमाल बहुत से इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइसेज में भी किया जाता है जैसे एचपी लैपटॉप, डेल लैपटॉप, लेनोवो लैपटॉप, मोटोरोला फोन, सोनी ब्राविया एलईडी टीवी, सोनी रीडर, गूगल एंड्रॉयड फोन आदि।

Privacy:- लिनक्स सुरक्षा और गोपनीयता के मामले में दूसरे सिस्टम से काफी ज्यादा अच्छा है।

Stability :- LINUX सबसे प्रसिद्ध और सबसे अधिक उपयोग किया जाने वाला ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है।

Free Of Cost :- लिनक्स को इस्तेमाल करने के लिए कोई पैसा देना नही पड़ता और आप इसमें अपनी मर्जी से किसी भी तरह का बदलाव कर अपने बिजनेस के लिए उपयोग कर सकते है।

लिनक्स के नुकसान (Disadvantages Of Linux Os in Hindi)

हार्डवेयर सॉफ्टवेयर :- प्रिंटर्स डिवाइसेज, स्कैनर्स आदि लिनक्स में इन सब की कमी है।

विंडोज सॉफ्टवेयर :- माइक्रोसॉफ्ट वर्ड, फोटोशॉप आदि window सॉफ्टवेयर लिनक्स में उपयोग नही हो सकते है अगर आप विंडोज का इस्तेमाल करते है तो यह आपके लिए नुकसान है।

आपने क्या सीखा

दोस्तों मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है कि हमारे लेख के जरिए आपको दिए गए विषय पर पूरी जानकारी प्राप्त हो सके ताकि आपको कहीं और जाना ना पड़े। Linux Kya Hai In Hindi इस लेख से जुड़ी कोई बात आपको पूछनी हो तो आप हमें नीचे कमेंट में बता सकते हैं ताकि हम आपकी परेशानी को जल्द से जल्द दूर कर सकें। अगर आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो दोस्तों इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिए ताकि बाकी लोगों तक भी जानकारी पहुंच सके।Linux Kya Hai in Hindi

1 thought on “Linux Kya Hai in Hindi इसका इतिहास, विशेषताएं, उपयोग, फायदे, नुकसान – What Is Linux in Hindi”

Leave a Comment

Skip to content